'भाषान्तर' पर आपका हार्दिक स्वागत है । रचनाएँ भेजने के लिए ईमेल - bhaashaantar@gmail.com या bhashantar.org@gmail.com । ...समाचार : कवि स्वप्निल श्रीवास्तव (फैज़ाबाद) को रूस का अन्तरराष्ट्रीय पूश्किन सम्मान। हिन्दी के वरिष्ठ कवि केदारनाथ सिंह को 49 वाँ ज्ञानपीठ पुरस्कार। भाषान्तर की हार्दिक बधाई और अनन्त शुभकामनाएँ।

सोच रहा है दिन / अश्वघोष

आँखों पर ओढ़ कर नींद
सो रही है रात, दिन के इन्तज़ार मे

सोच रहा है दिन
अगर नहीं पहुँचा वक़्त से
बेहोश रहेगी आरती और अज़ान
रह रहकर धड़कता रहेगा मुर्गे का दिल
कोलाहल को तरसेगा वक़्त

सोच रहा है दिन
अलावों में घूमती रहेगी आग
चूल्हे बदलते रहेंगे करवटें
ताने देती रहेगी चाय

सोच रहा है दिन
दुकानों के जिस्म में कुलबुलाती रहेंगी चीज़ें
पैरों को तरसती रहेंगी सड़कें
लैम्पपोस्ट में पथरा जाएगीँ
रोशनी की आँखें

रोशनी का ख़्याल आते ही
भाग लिया दिन
रात की आँखों में पिघलने लगी नींद
बर्फ़ की तरह।

[ श्रेणी : कविता । अश्वघोष ]