'भाषान्तर' पर आपका हार्दिक स्वागत है । रचनाएँ भेजने के लिए ईमेल - bhaashaantar@gmail.com या bhashantar.org@gmail.com । ...समाचार : कवि स्वप्निल श्रीवास्तव (फैज़ाबाद) को रूस का अन्तरराष्ट्रीय पूश्किन सम्मान। हिन्दी के वरिष्ठ कवि केदारनाथ सिंह को 49 वाँ ज्ञानपीठ पुरस्कार। भाषान्तर की हार्दिक बधाई और अनन्त शुभकामनाएँ।

घोड़ा थका हुआ / अनिरुद्ध नीरव

दिग्विजयी चिन्ह लिये
खूँटे पर आया
थका हुआ वो घोड़ा
बहुत हिनहिनाया

वे भी क्या दिन थे
जब हवा हुआ करता था
होड़ों में
जोड़ों में
सवा हुआ करता था
पर विकसित होने के
स्वप्न में समाया

सूमों से मादिनी
हथनियों के माथ पर
चित्र लिखे हैं जिसने
पौरुष के रंग भर
वही आज
पाँव उठाया तो थर्राया

दुर्गम की तामीली
में बाजी जान की
लग कर
हर टाप हुई
सील हुक्मरान की
घास हेतु अर्जी में
वही फुरफराया
[ श्रेणी : नवगीत । अनिरुद्ध नीरव ]