'भाषान्तर' पर आपका हार्दिक स्वागत है । रचनाएँ भेजने के लिए ईमेल - bhaashaantar@gmail.com या bhashantar.org@gmail.com । ...समाचार : कवि स्वप्निल श्रीवास्तव (फैज़ाबाद) को रूस का अन्तरराष्ट्रीय पूश्किन सम्मान। हिन्दी के वरिष्ठ कवि केदारनाथ सिंह को 49 वाँ ज्ञानपीठ पुरस्कार। भाषान्तर की हार्दिक बधाई और अनन्त शुभकामनाएँ।

घाव तो अनगिन लगे / कीर्ति चौधरी

घाव तो अनगिन लगे
कुछ भरे, कुछ रिसते रहे,
पर बान चलने की नहीं छूटी !

चाव तो हर क्षण जगे
कुछ कफ़न ओढ़े, किरन से सम्बन्ध जोड़े,
आस जीवन की नहीं टूटी !

भाव तो हर पल उठे
कुछ सिन्धु वाणी में समाए, कुछ किनारे
प्रीति सपनों से नहीं रूठी !

इस तरह हँस-रो चले हम
पर किसी भी ओर से संकेत की
कोई किरन भी तो नहीं फूटी !

[ श्रेणी : कविता । कीर्ति चौधरी ]