'भाषान्तर' पर आपका हार्दिक स्वागत है । रचनाएँ भेजने के लिए ईमेल - bhaashaantar@gmail.com या bhashantar.org@gmail.com । ...समाचार : कवि स्वप्निल श्रीवास्तव (फैज़ाबाद) को रूस का अन्तरराष्ट्रीय पूश्किन सम्मान। हिन्दी के वरिष्ठ कवि केदारनाथ सिंह को 49 वाँ ज्ञानपीठ पुरस्कार। भाषान्तर की हार्दिक बधाई और अनन्त शुभकामनाएँ।

मन करता है / कीर्ति चौधरी

झर जाते हैं शब्द हृदय में
पंखुरियों-से
उन्हें समेटूँ, तुमको दे दूँ
मन करता है

गहरे नीले नर्म गुलाबी
पीले सुर्ख लाल
कितने ही रंग हृदय में
झलक रहे हैं
उन्हें सजाकर तुम्हें दिखाऊँ
मन करता है

खुशबू की लहरें उठती हैं
जल तरंग-सी
बजती है रागिनी हृदय में
उसे सुनूँ मैं साथ तुम्हारे
मन करता है

कितनी बातें
कितनी यादें भाव-भरी
होंठों तक आतीं
झर जाते हैं शब्द
हृदय में पंखुरियों-से
उन्हें समेटूँ, तुमको देदूँ
मन करता है।

[ श्रेणी : कविता । कीर्ति चौधरी ]