'भाषान्तर' पर आपका हार्दिक स्वागत है । रचनाएँ भेजने के लिए ईमेल - bhaashaantar@gmail.com या bhashantar.org@gmail.com । ...समाचार : कवि स्वप्निल श्रीवास्तव (फैज़ाबाद) को रूस का अन्तरराष्ट्रीय पूश्किन सम्मान। हिन्दी के वरिष्ठ कवि केदारनाथ सिंह को 49 वाँ ज्ञानपीठ पुरस्कार। भाषान्तर की हार्दिक बधाई और अनन्त शुभकामनाएँ।

गजानन माधव मुक्तिबोध/ परिचय

गजानन माधव मुक्तिबोध
मुक्तिबोध का जन्म श्यौपुर, ग्वालियर में हुआ। नागपुर विश्वविद्यालय से हिन्दी में एम.ए. किया तथा आजीवन साहित्य-सृजन और पत्रकारिता से जुडे रहे। मुक्तिबोध अपनी लम्बी कविताओं के लिए प्रसिध्द हैं। इनकी कविता में जीवन के प्रति विषाद और आक्रोश है। मुख्य संग्रह हैं : 'चांद का मुंह टेढा है तथा 'भूरी-भूरी खाक धूल। ये काव्य में नए स्वर के प्रवर्तक तथा मौलिक चिंतक हैं। इन्होंने निबंध, कहानियां तथा समीक्षाएं भी लिखी हैं। समस्त रचनाएं 'मुक्तिबोध रचनावली (6 खण्ड) में प्रकाशित हैं।

[ श्रेणी : परिचय। गजानन माधव मुक्तिबोध ]